उत्तराखंड: नैनीताल में नोएडा की महिला की हत्या, ऋषभ बताकर आरोपी इमरान ने धोखे में रखा

0
Share

नोएडा की महिला पर्यटक की हत्या मामले का कोतवाली पुलिस ने खुलासा कर दिया है। मंगलवार रात गाजियाबाद से पकड़े गए आरोपित ऋषभ उर्फ इमरान में हत्या की बात कबूल ली है। पूछताछ में उसने बताया कि दीक्षा के पुराने ब्वॉयफ्रेंड का मैसेज देख कर रात को उसका दीक्षा के साथ झगड़ा हो गया था। जिससे आवेश में आकर उसने गला दबाकर दीक्षा की हत्या कर दी। जिसके बाद वह भाग खड़ा हुआ। आरोपित ने कबूल किया कि बीते एक साल से वह दीक्षा के साथ लिव इन में रह रहा था। दीक्षा के लिए ही उसने अपना नाम इमरान से परिवर्तित कर ऋषभ तिवारी रख लिया था।

नोएडा निवासी महिला, इमरान (ऋषभ तिवारी), स्वेता और अलमास उल हक स्वतंत्रता दिवस के दिन नैनीताल आए थे। वे यहां मल्लीताल स्थित होटल गैलेक्सी में ठहरे थे। उसी रोज महिला का जन्म दिन था इसलिए चारों ने देर रात तक होटल के कमरे में पार्टी की। इसके बाद महिला और इमरान एक कमरे में और स्वेता और अलमास उल हक दूसरे कमरे में चले गए। सोमवार की सुबह होटल के कमरे से नग्नावस्था में महिला (30) का शव बरामद हुआ, जबकि उसके साथ कमरे में ठहरा इमरान वहां से फरार हो चुका था।

एक साल पहले प्रॉपर्टी डीलिंग के कामकाज के चलते इमरान की मुलाकात दीक्षा मिश्रा से हुई थी। दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ी तो दोनों प्रेम प्रसंग भी शुरू हो गया। दीक्षा जिस कॉलोनी में रहती थी वहां अधिकतर हिंदू समुदाय के लोग होने के कारण दीक्षा के कहने पर ही इमरान ने अपना नाम बदलकर ऋषभ तिवारी रख लिया था। दीक्षा के परिजनों और कॉलोनी के कुछ लोगों को छोड़ अन्य दोस्त ऋषभ के इमरान होने की बात से वाकिफ थे।

हत्या के बाद बेटी के पास पहुंचा और मोबाइल का पासवर्ड पूछ लिया
महिला के परिजनों से हुई पूछताछ में पुलिस को पता चला कि नैनीताल से फरार हुआ इमरान सोमवार की सुबह दस बजे नोएडा स्थित अपने फ्लैट में पहुंच गया था। महिला के भाई के अनुसार फ्लैट से जरूरी सामान लेने के बाद इमरान उनके घर पहुंचा था, जहां उसने महिला की बेटी से कहा कि उसकी मां फोन भूलकर ऑफिस चली गई है। इमरान ने इसी दौरान बेटी से मोबाइल का पासवर्ड भी पूछ लिया और लॉक खोलकर फोन लेकर चला गया।